Arya Sanskriti Kendra

Reliving the spirit of OM.

21 Posts

31 comments

ASK


Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 10370 postid : 40

भारत-पाक क्रिकेट संबंध – Jagran Junction Forum

  • SocialTwist Tell-a-Friend

पाकिस्तान की बुनियाद अंग्रेजों के इशारे पर और दार – उल – इस्लाम और जिहाद के फल्सफे पर की रखी गई थी | कैसे कत्ले-आम के बाद नंगा कर हिन्दू – सिख औरतों के जलूस निकाले गए थे | ‘ मै न भूलूंगा – मै न भूलूंगी | उस दिन पाकिस्तान का नापाक चेहरा सारी दुनियां के सामने था | जिस थाली में खाना उसी में छेद करना इस्लाम की फितरत है | क्या किसी भी इस्लामिक देश में मुक़म्मल लोकतंत्र और आजादी है | कहीं ट्यूनिसिया, लीबिया, सोमालिया, मिस्र, इराक, यमन, पाकिस्तान (पाक – स्थान) धू – धू कर जल रहे हैं और तो कहीं सीरिया में रोज – रोज इंसानों का खून बह रहा है | यह इस लिये क्यूंकि इस्लाम में ‘ जिसकी लाठी उसकी भैंस ‘ का असूल चलता है |
हिन्दोस्तानी हो यां पाकिस्तानी, नेताओं को देश से क्या मतलब, उनके तो वोट बैंक महफूज रहना चाहिये | नेता तो दोनों देशों में एक सामान है कैसे भी हो सके राज और ताक़त उन्ही के हाथों में रहनी चाहिये | पाकिस्तान में तो नाम मात्र के प्रेजिडेंट और प्राइम मिनिस्टर हैं और पता नहीं कब आई एस आई धर दबोचे | मुल्लाओं की जुबान ( Islamic Ideology ) जहर उगलती है और आंतवादिकयों का आंतक | वहां हिजबुल मुजाहिद्दीन और जमात – उद दावा, लश्करेताईबा इधर हिन्दोतान में इंडियन मुजाहिद | आई एस आई के हाथ में तलवार और इधर हिन्दोस्तानी की पुलिस और खुफिया एजेंसियों के हाथ में ढाल और की नेताओं की नीतियों से पीठ पीछे बंधे हाथ | हाँ दोनों देशों में कुछ बचा है तो उनके सुप्रीम कोर्ट परन्तु इनके भी दायरे सीमित है | कभी – कभी तो ऐसा लगता है की इनके भी हाथ कठपुतलियों की तरह कानून की डोरियों से बंधे हुए हैं यां नेताओं द्वारा लगाये गए न्यायिक सक्रियता ( judicial activism ) के इल्जाम और हो – हल्ला | सुप्रीम कोर्ट तो दोनों देशो की आखरी उम्मीद रह गए हैं नहीं तो गणतंत्र, सेकुलरिज्म और समाजवाद को तो दिवाला निकल चुका है | दोनों देशों की जनता की पीठ भ्रष्टाचार, महंगाई और अपराधों के बोझ से टूट रही है, परन्तु दोनों देशों के नेतओं के कान में जूं भी नहीं रेंगती उनको तो भ्रष्टाचार और राजनीतिक दंदे से फुर्सत ही नहीं औरफ फिर क्रिकट के धन्धे का लालच कैसे छोड़ दें | इसके अलावा वोह हर वक़्त सोचते रहते हैं कि कैसे जनता -अवाम का ध्यान समस्याओं से हटा कर दूसरी तरफ लगा दिया जाये | तो क्रिकेट में हुआ दो तरह का फ़ायदा यानि आम के आम गुठलियों के दाम |
हिन्दोस्तान की सेन्ट्रल ब्यूरो आफ इन्वेस्टिगेशन को तो आम जुबान में लोग कांग्रेस ब्यूरो आफ इन्वेस्टिगेशन यां सरकारी ब्यूरो आफ इन्वेस्टिगेशन कहने लगे हैं |
‘ कुछ तो लोग कहेंगे लोगो का काम है कहना,
छोडो बेकार की बातों में कही बीत न जाये रैना ‘
रैना का मतलब यहाँ राज शासन करने का वक़्त अर्थात ‘ PERIOD OF RULE ‘ है | एक बार राजगद्दी हाथ आ जाये फिर कोई परवाह नहीं | संया बये बलवान अब डर काहे का | कांग्रेस के राज में पिछले साल दिसम्बर में जयपुर से १४ में से ११ सिमी ( स्टुडेंट इस्लामिक मूवमेंट ऑफ़ इंडिया ) के अपराधियों को छोड़ दिया, क्यूंकि कांग्रेस कि राजस्थान सरकार पर मुसलमान और मुल्लाओ का ऐसा राजनीतिक दबाव था, कि एंटी टेरेरिस्ट स्कुईड वहां की होम मिनिस्ट्री से मुकदमा चलाने कि इज़ाज़त न ले , ताकि कांग्रेसी नेताओं का मुस्लिम वोट बैंक बकरार रहे और उनकी बाद्शायत कायम रहे | अगर उग्रवादियों की सहायता के लिये जेहादियों को शह मिलती है तो मिले इससे राजनेताओं को क्या फर्क पड़ता है बल्कि उनके तो वोटों की तो पौं – बारह होगी | इसी वोट बैंक की राजनीति – पोलिसी के अन्तर्गत अभी -अभी उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेशजी, जिनके नाम का मतलब अखिल ईश है और अब वोह उत्तर प्रदेश के इश्वर हैं जो चाहेंगे करेंगे, ने समाजवादी पार्टी का समाजवाद लाने के लिये अपनी पार्टी के मंत्रियों के खिलाफ संगीन अपराधी मामले वापिस ले लिये | है न चोर – चोर मुसेरे भाई – भाई | पाकिस्तान कुछ भी करे आखिर हैं तो उसी थाली के चट्टे -बट्टे जिसके हिन्दोस्तानी नेता हैं | फौजी, पुलिसवाले और लोग मरें तो मरें, हमें क्या हानि हम तो हैं चोर – चोर मुसेरे भाई – भाई, ‘ घूमेंगे, फिरेगे, ऐश करेंगे और क्रिकट का हर तरह से फ़ायदा उठायेंगे | जनता की यादाश्त बहुत छोटी होती है | जो चला गया उसे भूल जा | जा अपनी हसरतों से, आंसू बहा के सो जा | फिर कुछ याद रह भी गया तो क्रिकट के लम्हे राजनितिक क्रिकट को भूला देंगे |



Tags:

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



latest from jagran